Saturday, January 20, 2018

अमिट

सफ़हा दर सफ़हा पलट गया था क़िताब का कोरा
जो इक्कादुक्का कभी छपा था बेमानी सा लगता

मुझ क़ाग़ज़ पर छपी नई अमिट सियाही हो तुम।

Page after page had turned over of the book, blank
Patches printed now and then seemed meaningless

You, are the permanent new ink for the paper I am.

Tuesday, January 9, 2018

रेशमी-रुई

जुलाहों सी लगन चाहिए इक रिश्ता बुनते रहने में
इक ओर प्रेम के ताने हैं तो इक ओर भरोसे के बाने 

रुई की सूत मैं ले आऊँगा, और तुम रेशम की डोर।

It takes the devotion of weavers, to weave a relationship
The weft is that of love, while the warp is woven of trust

I'll bring the threads of cotton, you get the silken strands.


Wednesday, January 3, 2018

काँधे

ज़ुबान भले ख़ामोश थी पर
कहना था जो वो कह दिया

काँधे से छूँ गया था काँधा।

Even though nothing was spoken 
What needed to be said was said

Shoulder'd touched her shoulder.

Wednesday, December 27, 2017

छुँअन





















अपनी ही सी धुन में हवा के साथ लहरातीं
जाने-अनजाने कभी गुदगुदाती, सहलातीं

चेहरे को मेरे तुमने छुँआ भी और नहीं भी।

Waving with the breeze on their own tune
Knowing-unknowingly tickling, caressing

You have touched my face and yet haven't.

Tuesday, December 26, 2017

दवा





















यूँ कस जाता है सीना थमी साँस से
पिंजर में दिल भी कैद सा लगता है

नज़र भरके तुम्हे देख लूँ तो दवा हो।

The breath caught in the chest knots tight,
Heart too feels as if caged within the ribs,

Just a glance full of seeing you, my elixir.

Monday, December 25, 2017

हाथ

बड़ा सोचते हैं जब भी छूते हैं
थामते, सहलाते, कस लेते हैं

शक़्श ही तो हैं हाथ तुम्हारे!

They think a lot as they touch
Holding, caressing, gripping

Your hands are a personality!

Wednesday, December 13, 2017

आज-कल





















अपने आज में तुम्हें पाता हूँ तो जी लूँ मैं आज
कल की अनजान ज़िन्दगी कल ही में जियूँगा

बेफ़िक्र साथ बैठी रहो, घड़ी मैंने बंद कर दी है।

As I find you in my today, I'll live in it fully
The unknown of tomorrow, is for tomorrow

Simply sit with me, I've turned off the watch.