Monday, October 23, 2017

सुनोगी?






















दवाओं की गोद में सर रखा था आधी नींद में, बेचैन
अधहोश हाल में क़लम, क़ाग़ज़ और फोन समेटा था

इक नज़्म लिखी है तुम सी मैंने, ग़र पढ़ूँ तो सुनोगी?


My head rested restless, half asleep in the lap of my medicines
In a semi conscious state, I gathered my pen, paper and phone

Have written a poem just like you; would you listen if I read it?

ज़ाहिर






















ज़हन में सोचे पिसे निचोड़े लफ्ज़  
लबों से ज़ाहिर तहरीकी अलफ़ाज़

तुम्हारी तो नज़र भर ही क़ाफ़ी हैं।

Words thought, ground and wrung in the consciousness,
Words of impulsive emotions then expressed by the lips,

For you, just a simple, single look's enough to say it all.

तहरीकी- impulsive

Sunday, October 22, 2017

बरसाती ज़ुबाँ






















किस ज़ुबाँ में गाती है वो, जाने क्या मायने हैं अलफ़ाज़ों के
समझता हूँ फिर भी, ग़र पूछो मुझ से तो समझा न पाऊँगा

सब्ज़ पत्तों पर बरसात सी सुनाई पड़ती हो, जब बोलती हो।


What's the language of the rain's song, what do her words mean?
I understand it all; but if one asks I will never be able to explain;

Soft raindrops upon tender green leaves, the sound of your voice.

Friday, October 20, 2017

महरूम























माज़ी ठुड्डे मार रहा है, रूह अब छलके कब छलके
है ज़हन महरूम मगर आज लफ्ज़ ओ अल्फ़ाज़ों से

याद हैं वो रातें जब ख़ामोश ही बातें किया करते थे ?

                                ~ ~ ~

The past keeps kicking, the spirit just might brim over,
Consciousness however, is bereft of every word today,

Remember, the nights when we'd converse in silences?

Thursday, October 19, 2017

जश्न-ए-रौशनी

Namaste,




















माटी की अंजुली में टिमटिमाएँगे आसमाँ के तारे
और ज़मीं के शहाब-ए-साक़ीबों से रौशन आसमाँ

जश्न-ए-रौशनी की दिली मुबारक़बाद है दुआ में।


In cupped earthen palms, will flicker the heavenly stars
And meteors from the earth will illuminate the heavens

Warmest of wishes in prayers for the Festival of Lights.





शहाब-ए-साक़ीब- meteor



.

Monday, October 16, 2017

फ़र्क






















रूमानियत से गुम होकर  आ जाए अग़र
हर्फ़ भर के फ़र्क से वह रूहानियत हो जाती है 

से होता है सिर्फ़ मैं, मगर  से होते हैं हम।






*An English translation of this is yet impossible for me to do, this being very language and script specific. I will however keep attempting to best represent it in English as well. Someday perhaps!!

ऊंघ

देर साथ बैठे बैठे, मेरे काँधे पर नींद आ गई थी
चौंककर फिर जागी भी थी, पर सर हटाया नहीं

मिले तो कई बार थे हम, मुलाक़ात आज हुई थी।

Sitting besides me for long she'd dozed off on my shoulder,
Then with a start had awakened too, but let her head rest,

We'd had many meets before, only today had we truly met.